हिन्दी व्याकरण मे कारक क्या है. कारक की पुरी जानकारी..

Advertisemen

हिन्दी व्याकरण मे कारक क्या है. कारक की पुरी जानकारी..
हिन्दी व्याकरण मे कारक क्या है. कारक की पुरी जानकारी..


प्रश्न - हिन्दी व्याकरण मे कारक क्या है  पुरी जानकारी..
उत्तर - कारक शब्द का अर्थ होता है- क्रिया को करने वाला ।
वाक्य में क्रिया को पूरा कराने में अनेक संज्ञा शब्द संलग्न होते हैं । इन संज्ञाओं के क्रिया शब्दों के साथ कई प्रकार के संबंध होते हैं । इन्हीं संबंधों को व्यक्त करने वाली व्याकरणिक कोटी कारक कहलाती है ।
दूसरे शब्दों में, कारक उसे कहते हैं जो वाक्य में आए संज्ञा आदि शब्दों का क्रिया के साथ संबंध बताती है ।
जैसे- राम ने किताब पढ़ी ।
इस वाक्य में ‘राम’ पढ़ना क्रिया का कर्ता है और किताब उसका कर्म । यानी ‘राम’ कर्ता कारक है और ‘किताब’ कर्म कारक
कारक आठ प्रकार के होते है -
1. कर्ताने (या कभी-कभी बिना चिह्न के)
2. कर्म को
3. करण से, के द्वारा, के साथ
4. संप्रदान को, के लिए
5. अपादान        से (अलग होने का सूचक)
6. संबंधमें, पर
7. अधिकरणका, की, के, रा, री, रे, ना, नी, ने
प्रश्न -  कर्ता कारक किसे कहते है?
उत्तर - कर्ता शब्द का अर्थ है- करने वाला ।
दूसरे शब्दों में, जिस रूप से क्रिया (कार्य) के करने वाले का बोध होता है वह कर्ता कारक कहलाता है । इसका विभक्ति-चिह्न‘ने’ है ।
‘ने’ चिह्न का वर्तमान काल और भविष्य काल में प्रयोग नहीं होता है । इसका सकर्मक धातुओं के साथ भूतकाल में प्रयोग होता है ।
जैसे-
राम ने रावण को मारा ।
इस वाक्य में क्रिया का कर्ता राम है । इसमें ‘ने’ कर्ता कारक का विभक्ति-चिह्न है । इस वाक्य में ‘मारा’ भूतकाल की क्रिया है ।
‘ने’ का प्रयोग प्रायः भूतकाल में होता है ।
भूतकाल में अकर्मक क्रिया के कर्ता के साथ भी ने चिह्न नहीं लगता है ।
जैसे- वह हँसा।
   
वर्तमान काल एंव भविष्यत काल की सकर्मक क्रिया के कर्ता के साथ ने चिह्न का प्रयोग नहीं होता है। जैसे- वह फल खाता है । वह फल खाएगा ।
    कभी-कभी कर्ता के साथ‘को’ तथा‘स’का प्रयोग भी किया जाता है।
(क)  बालक को सो जाना चाहिए ।
  (ख)  सीता से पुस्तक पढ़ी गई ।
प्रश्न  - . कर्म कारक किसे कहते है?
उत्तर - क्रिया के कार्य का फल जिस पर पड़ता है,  वह कर्म कारक कहलाता है।  इस कारक का चिह्न‘को’ है । यह चिह्न भी बहुत-से स्थानों पर नहीं लगता ।
जैसे-  मोहन ने साँप को मारा ।
लड़की ने पत्र लिखा ।
पहले वाक्य में‘मारा’ क्रिया है और साँप कर्म है । क्योंकि मारने की क्रिया का फल साँप पर पड़ा है । अतः साँप कर्म कारक है ।
दूसरे वाक्य में‘लिखने’की क्रिया का फल पत्र पर पड़ा । अतः पत्र कर्म कारक है । इसमें कर्म कारक का चिह्न‘को’ नहीं लगा है।
प्रश्न - करण कारक किसे कहते है?
उत्तर - वाक्य की क्रिया को संपन्न करने के लिए जिस निर्जीव संज्ञा का प्रयोग साधन के रूप में किया जाता है, वह संज्ञा करण कारक कही जाती है ।
इसका कारक चिह्न‘से’ के‘द्वारा’ है।
जैसे-
1. अर्जुन ने जयद्रथ को बाण से मारा ।
2. बालक गेंद से खेल रहे हैं ।
पहले वाक्य में कर्ता अर्जुन ने मारने का कार्य‘बाण’ से किया । अतः‘बाण से’ करण कारक है । दूसरे वाक्य में कर्ता बालक खेलने का कार्य‘गेंद’ से कर रहे हैं । अतः‘गेंद से’ करण कारक है ।
प्रश्न - संप्रदान कारक किसे कहते है?
उत्तर - संप्रदान का अर्थ है- देना ।
यानी कर्ता जिसके लिए कुछ कार्य करता है,  अथवा जिसे कुछ देता है । इस कारक का चिह्न‘के लिए’ को हैं ।
जैसे-
पुण्य के लिए वह सेवा कर रहा है ।
इस वाक्य में‘पुण्य के लिए ’  संप्रदान कारक हैं।
प्रश्न - अपादान कारक किसे कहते है?
उत्तर - जब वाक्य की किसी संज्ञा के क्रिया के द्वारा अलग होने, तुलना होने या दूरी होने का भाव प्रकट होता है वहां अपादान कारक होता है ।
इस कारक का चिह्न‘से’ है ।
जैसे- पेड़ से फल गिरा ।
इस वाक्य में पेड़ से फल का गिरना ये बताता है कि पेंड से फल अलग हुआ है ।
यानी इस वाक्य में पेड़ से अपादानकारक है ।
प्रश्न - संबंध कारक किसे कहते है?
उत्तर - शब्द के जिस रूप से किसी एक वस्तु का दूसरी वस्तु से संबंध प्रकट हो वह संबंध कारक कहलाता है ।
इस कारक का चिह्न‘का, के, की,रा,रे,री’ है ।
जैसे-
यह राधेश्याम का बेटा है ।
इस वाक्य में ‘राधेश्याम का बेटा’ से संबंध प्रकट हो रहा है । अतः यहाँ संबंध कारक है ।
प्रश्न - अधिकरण कारक किसे कहते है?
उत्तर - शब्द के जिस रूप से क्रिया के आधार का बोध होता है उसे अधिकरण कारक कहते हैं।
इस  कारक का चिह्न‘में’, ‘पर’ हैं ।
जैसे-
कमरे में टीवी रखा है ।
कमरे में  अधिकरण कारक है । क्योंकि इससे रखने की क्रिया के आधार का पता चलता है
प्रश्न - संबोधन कारक किसे कहते है?
उत्तर - जिससे किसी को बुलाने या सचेत करने का भाव प्रकट हो उसे संबोधन कारक कहते है ।
उत्तर - संबोधन चिह्न ( ! ) लगाया जाता है ।
जैसे-
अरे भैया ! क्यों रो रहे हो ?
हे गोपाल ! यहाँ आओ ।


इस पोस्ट मे "विशेषण क्या है",इस से सम्बन्धित पुरी जानकारी लिखने का प्रयास किया गया है...
अगर आपको ईसमे कोई त्रुटी  नजर आये तो हमे कामेन्ट मे बतायेे सुधार करके पोस्ट को अपडेट किया जायेगा.. आपके सुझाव हमारे लिऐ महत्वपुर्ण है.
आपको यह लेख पढकर कैसा लगा ईसके बारे मे दो शब्द निचे कामेन्ट बाक्स मे जरूर व्यक्त करे. आपके कामेन्ट हमे कुछ और अच्छा इससे भी बेहतर करने की प्रेऱणा प्रदान करता है..

धन्यवाद.
Advertisemen

Related Posts
Disqus Comments